डिस्‍क्‍लेमर



वाद-विवादों के मूल संस्‍करण में अंग्रेजी और हिन्‍दी में कार्यवाही उसी प्रकार दर्शायी गयी है जिस प्रकार वास्‍तव में सभा में की जाती हैं। इसमें प्रांतीय भाषाओं में दिए गए भाषणों का अंग्रेजी/हिन्‍दी अनुवाद भी शामिल है। वाद-विवादों के इलेक्‍ट्रॉनिक संसकरण में प्रश्‍नों और उनके लिखित उत्‍तरों का मूल पाठ शामिल नहीं है। इसमें वे अनुपूरक प्रश्‍न ही सम्‍मिलित हैं जिन्‍हें मौखिक रूप से पूछा जाता है और जिनका सभा में उत्‍तर दिया जाता है। इन प्रश्‍नों और उत्‍तरों की सूचना “संसदीय प्रश्‍न” आइकॉन क्‍लिक करके प्राप्‍त की जा सकती है।

लोक सभा वाद-विवाद प्रकाशनार्थ नहीं है और इन्‍हें मात्र जन हित में तात्‍कालिक आम जानकारी के प्रयोजनार्थ इंटरनेट पर उपलब्‍ध कराया जाता है।

संसदीय प्रतिलिप्‍याधिकार: समस्‍त संसदीय प्रतिलिप्‍याधिकार आरक्षित हैं। प्रयोक्‍ता मात्र अपने वयक्‍तिगत उपयोग अर्थात् निजी अध्‍ययन, अनुसंधान और अनुदेशात्‍मक या शैक्षिक प्रयोजनार्थ विषय वस्‍तु का अपने प्रिंटर या फाइल पर डाउनलोड करके इसका उपयोग करने के लिए प्राधिकृत हैं।.

प्रतिलिप्‍यधिकार और उपयोग: इस फाइल की विषयवस्‍तु से किसी भी सामग्री को उसी रूप में उद्धृत करने के लिए लोक सभा के अध्‍यक्ष की अनुमति अपेक्षित है। संस्‍था और लोक सभा वेबसाइट को समुचित रूप से स्रोत के रूप में दिखाए जाने की आवश्‍यकता है। जिस सामग्री के लिए अनुमति प्रदान की गई है उसे अक्षरक्ष: उसी रूप में उद्धृत किया जाना चाहिए और उसके संपादन आदि की अनुमति नहीं है।

प्रयोक्‍ताओं से अनुरोध है कि वे इस कार्य की दो प्रतियां संपादन शाखा, लोक सभा सचिवालय, कमरा संख्या; 510, संसदीय सौध को भेजें। जिसमें लोकसभा के अध्‍यक्ष की अनुमति से इस फाईल की विषयवस्‍तु से किसी सामग्री को अक्षरक्ष: उद्धृत किया गया है।

वास्‍तविक प्रतिलिप्‍यधिकार धारक (लोक सभा सचिवालय) की लिखित अनुमति के बिना इन वेब पेजों के किसी भी भाग को किसी भी संचार माध्‍यम में प्रकाशित न किया जाए अथवा सार्वजनिक रूप से उपलब्‍ध किसी भी वेबसाइट या अन्‍य प्रकार के किसी भी इलेक्‍ट्रानिक रिट्रिवल सिस्‍टम में प्रेषित न किया जाए अथवा संग्रहित न किया जाए और न ही इस प्रकार से प्रयोग किया जाए जिससे वे किसी तीसरे पक्ष की वेबसाइट अथवा इलेक्‍ट्रॉनिक डाटाबेस या रिट्रविल सिस्‍टम का हिस्‍सा प्रतीत हों।

वाद-विवादों से अक्षरक्ष: उद्धृत किए जाने की मिली अनुमति के आधार पर इस प्रकार के अक्षरक्ष: उद्धरण के कारण उत्‍पन्‍न होने वाली किसी भी कानूनी कार्यवाही के खिलाफ किसी भी प्रकार का संरक्षण उपलब्‍ध नहीं होगा।

लोक सभा वाद विवाद की मुद्रित प्रतिया विक्री प्रभाग, संसदीय सौध, नई दिल्‍ली पर उपलब्‍ध है।

(C) लोक सभा सचिवालय



राष्‍ट्रीय सूचना विज्ञान केन्‍द्र द्वारा इस साइट को तैयार और प्रस्‍तुत किया गया है।
इस वेबसाइट पर सामग्री का प्रकाशन, प्रबंधन और अनुरक्षण सॉफ्टवेयर एकक, कंप्‍यूटर (हार्डवेयर एवं सॉफ्टवेयर) प्रबंधन शाखा, लोक सभा सचिवालय द्वारा किया जाता है।